मंगलवार, 14 जुलाई 2009

तुलना



खिला फूल मदार का एक

मंदिर में हुई गुलाब से भेंट

बोला मदार गुलाब से नेक

होता तुमसे है अभिषेक

राजा हो या देवता अनेक

माली
रखता तुमको सहेज

करें प्रदर्शन अपना प्रेम

प्रेमी युगल हों या दोस्त विशेष

महके चमन तुमसे हर एक

गुलाब तुम हो अति विशेष

नहीं ठिकाना मेरा एक

देते सब मुझको उखाड़ के फ़ेंक

भटकता रहता हूँ पथ पे अनेक

लिए निराशा मन में समेट

हुई न मेरी प्रेम से भेंट

ली गुलाब ने फिर अंगड़ाई

बोला मदार से मेरे भाई

नहीं है जीवन कोई व्यर्थ

जिसका हो न कोई अर्थ

प्रकृति की है रचना जितनी

सबकी है विशेषता अपनी

तुम अपनी पहचान बनाओ

जीवन में कुछ नाम कमाओ

चढ़ते तुम हो उनके शीश

जो हैं सभी ईशों के ईश

तुमसे करते हैं उनका श्रंगार

फूल हो तुम भी विशेष मदार

करो न तुम किसी से तुलना

ढूंढो तुम भी वजूद अपना

जीवन में जिनके सुख होता है

काँटों पे उनको भी चलना होता है

मार्ग चिकने फिसलन लाते हैं

पथरीले मंजिल को पाते हैं

दो न तुम अपने को दोष

भरो जीवन में उमंग और जोश


(इस कविता को मैंने काफ़ी पहले पोस्ट किया था जब मैं चिट्ठा जगत से नही जुड़ी थी तब किसी ने नहीं पढ़ा था )

12 टिप्‍पणियां:

  1. jiwan me sabhi ka apana apana mahattva hota hai..
    har cheez apane me ek khas hoti hai aur wah jis kaam ke liye prithvi par bheji jati hai use kewal wahin kar sakata hai..

    chahe madar ho ya gulab..

    bahut hi badhiya rachana!!!
    badhayi ho.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन की महत्ता को स्थापित करती -- जीवन का सार रेखांकित करती बहुत खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut hi sundar hi tulana fulo se fulo ka tulana our isi kram me jindagi ke gud tatwa ko samajha diya
    atisundar ....kabile tarif

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना है ।इस बार इसको ब्लागर जरूर पढेगें ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इतनी सुन्दर रचना उस समय किसी ने नहीं पढ़ी? अच्छा किया फिर से पोस्ट कर दी, बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाँ ..! न गुलाब कहता है ,कि , उसे इतना अलग समझा जाय न , कि , उसके तने में उगे उगे अन्य तृण पात या वन्य फूल , कि , उनकी ओर ध्यान दिया जाय ...ये खुराफातें तो मनुष्य कर जाता है ...!

    आपकी सारी रचनाएँ, एक परिपक्वता ज़ाहिर करती हैं...ये केवल शब्दों का खेल नही है....!
    बधाई स्वीकार करें....! वैसे,मै ख़ुद एक अदना-सी व्यक्ती हूँ...आपको बड़े,बड़े गिग्गजों ने बेहतरीन टिप्पणियाँ दी हैं..!
    मेरे 'कविता' ब्लॉग पे आपकी टिप्पणी पाती हूँ,तो हमेशा लगता है,मनसे कही बात है...

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    http://fiberart-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूबसूरती से बताया है की किसी का जीवन व्यर्थ नहीं है....बस सही रास्ता पाना चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं